Farmers shared their problems with CPWD secretary, demanded compensation of 1.60 crore per acre

Farmers shared their problems with CPWD secretary, demanded compensation of 1.60 crore per acre

February 11 2019

This content is currently available only in Hindi language.

करतारपुर कॉरिडोर के निर्माण के लिए केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (CPWD) के सचिव हुसन लाल ने शनिवार को डेरा बाबा नानक का दौरा किया। यहां उन्होंने जमीन अधिग्रहण को लेकर किसानों से बात की और उनकी समस्याएं सुनीं। किसानों ने जमीन के लिए 1.60 करोड़ रुपये प्रति एकड़ मुआवजे की मांग की है।

जायजा लेने के बाद सचिव हुसन लाल ने कहा कि करतारपुर कॉरिडोर निर्माण के काम में सरकार तेजी लाई है। कानूनी प्रक्रिया पूरी करने के साथ ही कॉरिडोर का निर्माण किया जाएगा। नेशनल हाईवे अथॉरिटी की ओर से जमीन अधिग्रहण से पहले किसानों को 21 दिन का समय एतराज पेश करने के लिए दिया गया है। किसानों के एतराज एसडीएम डेरा बाबा नानक की ओर से सुनने के बाद ही अगली कार्रवाई शुरू होगी। इस मौके पर डीसी विपुल उज्ज्वल भी साथ थे।

उधर, जमीन बचाओ कमेटी के प्रधान मुनीष महाजन मनी के नेतृत्व में किसानों सूबा सिंह, गुरजीत सिंह, सुखदेव सिंह, गुरजीत सिंह, जगराज सिंह और जगजीत सिंह ने हुसनलाल से बात की और उन्हें अपनी समस्याएं बताई। किसानों ने कहा कि सरकार उनकी जमीन कम कीमत पर ले रही है। केंद्र सरकार किसानों को जमीन का मुआवजा नेशनल हाईवे-15 के निर्माण के दौरान दिए मुआवजे की तर्ज पर 1.60 करोड़ प्रति एकड़ के हिसाब से दे। इस पर हुसन लाल ने कहा कि किसान अपनी जमीन के कागजात लैंड कलेक्टर को दिखाएं ताकि उन्हें कानूनी प्रक्रिया के तहत मुआवजा मिल सके।

रास्ते में आने वाले बिजली के खंभे हटेंगे, वृक्ष भी काटे जाएंगे

सीपीडब्ल्यूडी सचिव हुसनलाल ने  कहा कि वह डेरा बाबा नानक नेशनल हाईवे अथॉरिटी की ओर से प्रस्तावित कॉरिडोर का जायजा लेने आए हैं। जमीन अधिग्रहण के बाद रास्ते में आने वाले बिजली के खंभों हटाए जाएंगे। वृक्ष काटने के लिए भी प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

इस खबर को अपनी खेती के स्टाफ द्वारा सम्पादित नहीं किया गया है एवं यह खबर अलग-अलग फीड में से प्रकाशित की गयी है|

स्रोत:  Jagran